Featured post

New address for my tukbandi

Sunday, 31 August 2014

Hindi Love Poem: तेरे चेहरे का चांद...



तेरे चेहरे का चांद
और
मेरे दिल का समन्दर,

और फिर...

कभी ज्वार,
कभी भाटा.



(Author, my tukbandi)

No comments:

Post a Comment