Featured post

New address for my tukbandi

Sunday, 15 March 2015

Hindi Love Poem: जब से वो जीवन में आई...


जब से वो जीवन में आई,
हुआ सवेरा, चली पुरवाई.

गीत, कविता, ग़ज़ल, रुबाई,
सबमें उसकी महक समाई.

मुझको मिली मेरी मोहब्बत,
दुनिया की हर दौलत पाई.

सोया हुआ था बहुत दिनों से,
दिल जागा और ली अंगड़ाई.

पतझड़ के मौसम में राजू!
मन का उजाड़, बना अमराई.


(Author, my tukbandi)