Tuesday, 17 November 2015

My Crazy Kavita: इश्क़ में तो कमाल हो गया...



इश्क़ में तो कमाल हो गया,
दो दिन में कंगाल हो गया.

सब नींद उड़ गई रातों की,
आंखों का रंग लाल हो गया.

ऐसे घूमे दिलो-दिमाग,
आकाश का पाताल हो गया.

फरमाइशों भरा प्रेम-पत्र,
मेरे जी का जंजाल हो गया.

ऐसे में अब कुछ ना पूछो,
क्या कहूं क्या हाल हो गया.

दुनिया जंगल, मैं विक्रम,
और इश्क़ बेताल हो गया.

तो दोस्तों!

इसी में है सबकी भलाई,
मन लगाकर करो पढाई।





You might also like "my love tukbandi", click HERE and enjoy beautiful love poems.


*Image Source: Pexels


2 comments: