Featured post

New address for my tukbandi

Saturday, 24 December 2016

Hindi Poem: रिश्तों की देखभाल...



रिश्तों की मैली चादर को
धो ना सको तो हुजूर!
कम से कम
उलटकर ही बिछा लो.


(Author, my tukbandi)


1 comment: